जाने कब आपसे प्यार का इज़हार होगा, जाने कब आपको हमसे प्यार जोगा, गुजर रही हैं आपकी ही याद में ये रातें, जाने कब आपको भी हमारा इंतज़ार होगा

कितना खूबसूरत चेहरा है तुम्हारा, ये दिल तो बस दीवाना है तुम्हारा, लोग कहते है चाँद का टुकड़ा तुम्हें, पर मैं कहता हूँ चाँद भी टुकड़ा है तुम्हारा।

ज़िंदगी लहर थी आप साहिल हुए, ना जाने कैसे हम आपके काबिल हुए, ना भुला पाएंगे हम उस हसीं पल को, जब आप हमारी ज़िंदगी में शामिल हुए।"

रब भी ना जाने, कैसे रिस्ते बाना देता है, कब कहा कैसे मिला देता है, जीसको कभी हम जानते भी ना था, हमारे जीने की वजह बना देता है "

धोखा ना देना कि तुझपे ऐतबार बहुत है, ये दिल तेरी चाहत का तलबगार बहुत है, तेरी सूरत ना दिखे तो दिखाई कुछ नहीं देता, हम क्या करें कि तुझसे हमें प्यार बहुत है।"

दिल का तमाशा देखा नहीं जाता, टुटा हुआ सितारा देखा नहीं जाता, अपनी हीसे की सारी ख़ुशी आपको दे दूँ, मुझसे आपका ये उदास चेहरा देखा नहीं जाता"

ऐसा क्या बोलूं कि तेरे दिल को छू जाए, ऐसी किससे दुआ मांगू कि तू मेरी हो जाए, तुझे पाना नहीं तेरा हो जाना है मन्नत मेरी, ऐसा क्या कर दूं कि ये मन्नत पूरी हो जाए।"

वो वक़्त वो लम्हे कुछ अजीब होंगे, दुनिया में हम खुश नसीब होंगे, दूर से जब इतना याद करते है आपको, क्या होगा जब आप हमारे करीब होंगे! 

तेरे ख्यालों में खोया कुछ ऐसा हो, की सब कुछ भूल जाता हूँ और पता नही चलता, की मेरी साँसों से में हो, या तेरे होने से मेरी साँसे."

तू चाँद और मैं सितारा होता, आसमान में एक आशियाना हमारा होता, लोग तुम्हे दूरसे देखते, नज़दीक से देखने का हक बस हमारा होता"